जयपुर को नम्बर वन बनाने के लिये प्रशासक सभी अधिकारियों को फील्ड में रहने के निर्देश


जयपुर, 27 नवम्बर। क्या आपको पता है जयपुर शहर स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 में भाग ले रहा हैघ् कुछ इसी तरह के सवालों के सही जवाब स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 में जयपुर के लोगों से पूछे जायेगे और हर सही जवाब से मिलने वाले नम्बर जयपुर की रैकिंग तय करेगे। जनता को स्वच्छ सर्वेक्षण के बारे में पूरी जानकारी हो इसके लिये डोर-टू-डोर संपर्क से लेकर सैमीनार तक आयोजित किये जायेगे। नगर निगम प्रषासक विजयपाल सिंह ने बुधवार को नगर निगम मुख्यालय के ईसी हाॅल में आयोजित स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिये है कि जयपुर को स्वच्छ सर्वेक्षण में नम्बर वन बनाने के लिये सभी का सहयोग लें।


आमजन, मीडिया, स्वयं सेवी संगठनों को साथ लेकर आगे बढ़े-


प्रषासक एवं आयुक्त नगर निगम विजयपाल सिंह ने निर्देश दिये है कि स्वच्छ सर्वेक्षण में आमजन की भागीदारी सुनिष्चित की जाये। स्वयं सेवी संस्थाओं, रेजीडेन्ट वेलफेयर सोसायटियों, मीडिया, व्यापार मण्डलों सहित जनता को साथ में लेकर स्वच्छ सर्वेक्षण का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। उन्होंने निर्देश दिये है कि हर वार्ड में अलग-अलग तरह की स्वच्छता जागरूकता सम्बन्धी गतिविधियां आयोजित की जाये।


डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण व्यवस्था होगी मजबूत-


मीडिया से मुखातिब होते हुये निगम प्रषासक ने बताया कि डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण व्यवस्था को ओर मजबूत किया जायेगा। यदि किसी इलाके में हूपर नहीं पहुंचने से कचरा उठाने में दिक्कत आयेगी तो निगम अपने संसाधनों से कचरा संग्रहित करवायेगा। इसके लिये नई व्यवस्था शीघ्र ही की जा रही है। ओपन डिपों पर कचरा नहीं रहे इसके लिये रात में ही ओपन डिपों से कचरा उठाने की व्यवस्था की जायेगी। इसके साथ ही मीडिया एवं स्वयं सेवी संस्थाओं के माध्यम से लोगों को कचरा नहीं फैलाने के लिये जागरूक किया जायेगा। ज्यादा से ज्यादा लोग स्वच्छ सर्वेक्षण के बारे में जान सके और स्वच्छता के प्रति जागरूक हो इसके लिये हूपरों के माध्यम से अपील प्रसारित करवाई जायेगी।


मुख्य निर्देश-


वाॅलपेन्टिग, होर्डिग्स, बैनर, प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया में विज्ञापन के माध्यम से स्वच्छ सर्वेक्षण का प्रचार-प्रसार किया जाये।
सभी अधिकारियों की गाड़ियों में पब्लिक अनाउंस सिस्टम लगाया जाये।
गंदगी फैलाने वालों पर जुर्माना लगाया जाये।
गीले और सूखे कचरे को अलग-अलग रखने का व्यापक प्रचार-प्रसार हो।
अधिकारी नियमित रूप से फील्ड में जाये और सफाई व्यवस्था दुरूस्त करवाये।
इस दौरान अतिरिक्त आयुक्त अरूण गर्ग सहित सभी जोन एवं निगम मुख्यालय पर पदस्थापित उपायुक्त एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।


 

Comments