जिला कलक्टर ने सांभर में स्थापित रेस्क्यू ऑपरेशन सेंटर का लिया जायजा, मृत पक्षियों का कराया सुरक्षित निस्तारण

जयपुर, 14 नवम्बर। जिला कलक्टर श्री जगरूप सिंह यादव ने गुरूवार को सांभर झील क्षेत्र का दौरा कर सैंकड़ों देषी-विदेषी पक्षियों की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए काम कर रही देशभर के वैज्ञानिकों, चिकित्सकों एवं अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की एवं यहां स्थापित सेंटर में रेस्क्यू ऑपरेशन्स की समीक्षा की। उन्होंने अपनी निगरानी में पक्षियों के शवों का सुरक्षित निस्तारण कराया। श्री यादव ने बताया कि शुक्रवार को नागरिक सुरक्षा की पांच टीमें झील के खारे पानी की क्यारियों में पक्षियों के शवों की तलाष करेंगी।  


जिला कलक्टर ने बताया कि रविवार, 10 नवम्बर को संाभर झील में पक्षियों की बड़ी संख्या में मौत का मामला सामने आते ही जिला प्रषासन द्वारा त्वरित कदम उठाते हुए पषुपालन विभाग एवं वन विभाग के अधिकारियों को मौके पर भेजा गया। वर्तमान में भी देषभर के पक्षी विशेषग्य इन पक्षियों के इतनी बड़ी संख्या में हताहत होने के कारणों का अध्ययन कर रहे हैं अब तक मिली जानकारी के अनुसार मृत पक्षियों के (मैगेट्स) कीड़े लगेे शवों को खाने से फैले संक्रमण के कारण इनकी जान गई है। अब तक करीब 2 हजार पक्षियों की मौत हो चुकी है। पहले दिन करीब 1000 पक्षियों के शव हटवाए गए थे। कुछ और पक्षियों के शव क्यारियों मेें मृत पडे़ हो सकते हैं। 



इनकी खोज के लिए शुक्रवार को अभियान चलाया जाएगा। श्री यादव ने बताया कि पक्षियों के रेस्क्यू के लिए एक रेस्क्यू सेंटर सांभर में स्थापित कर दिया गया है। आवष्यकता के अनुसार रेस्क्यू सेंटर्स की संख्या बढाई जाएगी। यहां बुधवार को 31 लकवाग्रस्त पक्षियों एवं गुरूवार को 8 पक्षियांे की जान बचाई गई।  श्री यादव ने बताया कि वैज्ञानिक इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैंे कि पक्षियों की जान किसी  फ्लू या वायरस के कारण नहीं गई है। ऐसा होने पर इंसानों को सम्पर्क में आने पर खतरा हो सकता था। शुक्रवार को नागरिक सुरक्षा की टीमें गम बूट पहनकर ब्रायन में बचे पक्षियों के शवो को तलाशेगी ।



Comments