जिला प्रशासन कराएगा जयपुर जिले में सड़क मरम्मत की ऑडिट -जिला कलक्टर

जयपुर,  जिला प्रशासन जयपुर जिले में सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा मरम्मत कराई गई सड़कों के काम की ऑडिट कराएगा। कलक्टर श्री जगरूप सिंह यादव ने इस सम्बन्ध में सोमवार को हुई समीक्षा बैठक में जेडीए और नगर निगम को भी सड़कों की स्थिति सुधारने के लिए योजनाबद्ध रूप से काम करने को कहा। साथ ही सम्बन्धित अधिकारियों को शहर में कचरा प्रबंधन, फूड सेफ्टी अधिनियम में कार्यवाही, डूंेगू की रोकथाम, एंटी लार्वा गतिविधियां बढाने, समेत कई निर्देष प्रदान किए।



श्री यादव ने कहा कि जिले में हर व्यक्ति को उसकी सड़क की स्थिति और सुधार कार्य की कार्यवाही जानने का अधिकार है। ताकि विसंगति मिलने पर वह षिकायत दर्ज करा सके। होना तो यह चाहिए कि हर किलोमीटर नम्बर के साथ सड़कों की मरम्मत की स्थिति आमजन को पता रहती। बार-बार कहने के बाद भी पीडब्ल्यूडी द्वारा जिले की पेचवर्क एवं मरम्मत कराई गई सड़कों की सूची अब तक वेबसाइट पर नहीं डाली गई है। इसलिए यह तय किया गया है कि मरम्मत की गई सड़कों की जिले के रेवेन्यू तंत्र से ऑडिट करा ली जाए। पीडब्ल्यूडी के अनुसार अब तक जिले में डीएलपी अवधि (वह समय जिसमें सड़क की मरम्मत करना संवेदक की जिम्मेदार होती है) वाली 96 प्रतिषत सड़कें ठीक कराई जा चुकी हैं एवं 31.5 प्रतिषत नॉन डीएलपी सड़कें सुधारी जा चुकी हैं।



श्री यादव ने शहर की कचरा प्रबन्धन व्यवस्था को नाकाफी बताते हुए निगम अधिकारियों को निर्देष दिए कि जिम्मेदार फर्म द्वारा कचरा नहीं उठवाए जाने की स्थिति में उस पर पेनल्टी लगाई जानी चाहिए और अगर संविदा शर्त में इसका प्रावधान नहीं है तो उसका कांटेक्ट निरस्त किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जयपुर के नागरिकों को किसी अनुबंध फर्म की अनुकम्पा पर नहीं छोड़ा जा सकता। कचरा आवष्यक रूप से उसी दिन उठाया जाना चाहिए। श्री यादव ने बताया कि विषय की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रषासन के सहायक कलक्टर, एसडीएम एवं अतिरिक्त कलक्टर स्तर तक के अधिकारियों को कचरा संग्रहण, परिवहन एवं निस्तारण व्यवस्था की मॉनिटरिंग के लिए लगाया गया है। उन्होंने बताया कि वे स्वयं भी डोर टू डोर कचरा संग्रहण समेत अन्य व्यवस्थाएं देखने शहर में निकलेंगे एवं कॉलोनियों में आमजन से फीडबैक लेंगे।



बैठक में जिला कलक्टर ने चिकित्सा विभाग एवं नगर निगम के अधिकारियों को डेंगू प्रसार पर विषेष नजर रखने के निर्देष दिए हैं। उन्होंने कहा कि डेंगू का कोई भी मामला सामने आते ही दोनों विभाग हर दिन डेटा का आदान-प्रदान करें और इसकी रोकथाम के लिए त्वरित रूप से एंटी लार्वा गतिविधियां, सर्वे आदि करें।



श्री यादव ने पिछले एक सप्ताह में फूड सेफ्टी अधिनियम के अन्तर्गत मात्र 6 नमूने लिए जाने पर नाखुषी जाहिर करते हुए नमूनों की सख्या बढाने के निर्देष दिए। उन्होंने एक सप्ताह में शहर में बिना अनुमति चल रहे मात्र 10 होटल-रेस्त्रां को नोटिस देने को भी नाकाफी मानते हुए इसके लिए विषेष अभियान चलाने के निर्देष दिए। इसी प्रकार शहर में बिना पंजीयन चल रहे सैंकड़ों विवाह स्थलों के पंजीयन एवं उन पर फायर एनओसी समेत सभी आवष्यक सुरक्षा मानक सुनिष्चित करने के लिए विषेष अभियान चलाने के निर्देष दिए। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री इकबाल खान, अतिरिक्त जिला कलक्टर चतुर्थ श्री अशोक कुमार, अतिरिक्त जिला कलक्टर दक्षिण श्री शंकरलाल सैनी, विभिन्न विभागों के प्रतिनिधि शामिल हुए।


Comments