वार्डो के परिसीमन के वार्डवार प्रस्ताव 4 दिसम्बर तक भिजवाये जोन उपायुक्त- आयुक्त हैरिटेज और जयपुर ग्रेटर निगम के वार्डो के परिसीमन के लिये आयोजित बैठक में दिये निर्देश

जयपुर, 21 नवम्बर। जयपुर हैरिटेज एवं जयपुर ग्रेटर नगर निगम के वार्डो के परिसीमन की सूचना जोन उपायुक्तों को 4 दिसम्बर तक निगम मुख्यालय को भिजवानी होगी। जोनों से प्राप्त प्रस्तावों के आधार पर निगम मुख्यालय में दोनों निगमों के लिये प्रस्ताव तैयार किया जायेगा। इस कार्य को 10 दिसम्बर तक करना होगा। इसके बाद 15 दिसम्बर को वार्डो के परिसीमन का ड्राफ्ट प्रकाषित किया जायेगा। गुरूवार को नगर निगम मुख्यालय के ईसी हाॅल में आयोजित बैठक में आयुक्त विजयपाल सिंह ने सभी जोन उपायुक्तों को तय समय सीमा में परिसीमन के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देष दिये।
आयुक्त विजयपाल सिंह ने बताया कि उपायुक्तों को विधानसभा वार प्रभारी बनाया गया है। उस क्षेत्र में जो वार्ड प्रस्तावित है उनका नक्षा, आबादी एवं वार्ड सीमा का ड्राफ्ट तैयार करके उपायुक्त 4 दिसम्बर तक मुख्यालय को भिजवायेगे।
परिसीमन के समय इन बातों का रखना होगा ध्यानः-
1.कोई भी क्षेत्र प्रस्तावित वार्ड में से न छूटे।
2. एक वार्ड दो विधानसभा क्षेत्रो में नहीं आये।
3. यथा संभव पुलिस थाने की सीमा के साथ इस प्रकार बनाया जाये कि पूरा वार्ड एक थाने की सीमा में रहे।
4. वार्डो के गठन में उपायुक्त पुलिस के क्षेत्राधिकार का ध्यान रखा जाये। यथा संभव एक वार्ड अलग-अलग पुलिस          उपायुक्त क्षेत्राधिकार में नहीं हो।
5. यथा संभव एक वार्ड की सीमाऐं जयपुर विकास प्राधिकरण के एक ही जोन के भीतर हो।
6. वार्डो का गठन इस प्रकार हो कि वार्ड लम्बे व सड़कनुमा नहीं हो तथा यह भी ध्यान रखा जाये कि किसी वार्ड में       कोई पाॅकेट न बने।
7. एक ही मकान दो वार्डो में विभाजित ना हो।
सम्बन्धित एसडीएम/एसीएम से समन्वय करें साथ ही विधानसभा क्षेत्र प्रभारी अधिकारी से भी समन्वय करें।
यथा संभव एक वार्ड एक ही जलदाय, विद्युत, सार्वजनिक निर्माण विभाग कार्यालय के क्षेत्राधिकार में आये।
आयुक्त ने बैठक में जोन उपायुक्तों को निर्देष दिये कि संपर्क पोर्टल, काॅल सेन्टर आदि पर दर्ज प्रकरणों का शीघ्र निस्तारण करें। वार्डो के परिसीमन की आगामी समीक्षा बैठक अब 27 नवम्बर को आयोजित की जायेगी। इस दौरान अतिरिक्त आयुक्त अरूण गर्ग सहित जोन एवं मुख्यालय में पदस्थापित उपायुक्त उपस्थित रहे।


Comments