मोदी सरकार की सर्वोच्य प्राथमिकता महिलाओं का उत्थानः-सांसद बोहरा


जयपुर सांसद श्री रामचरण बोहरा ने आज लोकसभा में महिला एवं बाल विकास के लिए केन्द्र सरकार द्वारा कार्यान्वित की जा रही योजनाओं को लेकर आदिवासी क्षेत्रों में महिलाओं एवं बच्चों की कुपोषण की स्थिति को लेकर सदन का ध्यान आकर्षित किया एवं सरकार द्वारा आदिवासी क्षेत्रों में चलायी जा रही योजनाओं की जानकारी मांगी।


सांसद बोहरा द्वारा महिला उत्थान एवं उनके स्वास्थ्य के लिए केन्द्र सरकार द्वारा किए जा रहें प्रयासों के सन्दर्भ में पूछे गये प्रष्न के जवाब में केन्द्रीय महिला एंव बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी जी ने बताया कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय एवं आदिवासी मामले मंत्रालय के साथ मिलकर आदिवासी क्षेत्रों में निवास करनें वाले महिलाओं एंव बच्चों के कुपोषण को दूर करने को लेकर विषेष रूप से कार्यरत् हैं। एवं उनके स्वास्थ्य को लेकर गंभीर हैं।


सांसद बोहरा द्वारा केन्द्र सरकार द्वारा महिला सषक्तिकरण के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी चाहने पर श्रीमती ईरानी ने बताया कि देष में क्रियाषील 13.77 लाख आंगनवाड़ी केन्द्रों के माध्यम से 836.25 लाख लाभार्थियों को पूरक पोषण, स्कूलपूर्व अनौपचारिक षिक्षा, पोषण एवं स्वास्थ्य षिक्षा, टिकाकरण, स्वास्थ्य जांच एवं रेफरल सेवाओं के माध्यम से लाभान्वित किया जा रहा हैं।


सांसद बोहरा द्वारा  पूछे गए प्रष्न के जवाब में श्रीमती ईरानी ने बताया कि महिला एवं बच्चों के स्वास्थ्य के लिए वर्ष 2022 तक 0 से 6 वर्ष आयु के बच्चों मे ंठिगनेपन की दर को 38.4 प्रतिषत से घटाकर 25 प्रतिषत पर लाने का प्रयास किया जा रहा है। केन्द्रीय मंत्री ने आगे बताया कि गर्भवती महिलाऐं एवं षिषुवती माताओं के स्वास्थ्य सेवा लाभ एवं स्वभाव में सुधार लाने के लिए प्रधानमंत्री मातृ वन्दना योजना के तहत 5000 रूपये का मातृत्व लाभ अंतरित किया जा रहा है। इसके अन्तर्गत  अभी तक 01 करोड़ से अधिक महिलाओं को 4571.27 करोड़ रूपये का मातृत्व लाभ अंतरित किया जा चुका है।


Comments