अब बिजली गिरने की सूचना 45 मिनट पहले मिल जाएगी


05 दिसम्बर 2019ः जयपुरः अब जयपुर में 45 मिनट पहले ही मिल जाएगी बिजली
गिरने की सूचना। आईआईएस (डीम्ड टू बी विश्वविद्यालय), जयपुर परिसर में भारत
सरकार की शोध संस्था उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान, पुणे की ओर से बिजली
गिरने और कड़कने की पूर्व सूचना देने वाले यंत्र (अर्थ नेटवर्क लाइटनिंग सेंसर)
स्थापित किया गया है। अमेरिका की कम्पनी अर्थ नेटवर्क द्वारा निर्मित यह सेंसर,
भारत की कम्पनी प्रदूषण उपकरण एवं नियंत्रण कम्पनी, नई दिल्ली से उपस्थित
इंजिनियर अमर ज्योति एवं इंजिनियर विनीत कटारिया के निर्देशन में यह सेंसर
स्थापित किया गया है। डॉ सुरेश तिवारी, उप निदेशक, उष्णदेशीय मौसम विज्ञान
संस्थान, पुणे के मुताबिक बिजली गिरने की सूचना देने वाला यह यंत्र अभी तक
सम्पूर्ण जयपुर में लगा पहला एवं एकमात्र यंत्र है।


गौरतलब है कि भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान, पुणे व आईआईएस
विश्वविद्यालय के बीच एक करार पत्र (एमओयू) तैयार किया गया है। शोध एवं
अकादमिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने के मकसद से विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ
अशोक गुप्ता एवं डॉ सुरेश तिवारी, उप निदेशक, उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान,
पुणे ने इस करार पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं। इसी क्षेत्र में पहला कदम बढ़ाते हुए
विश्वविद्यालय परिसर में अर्थ नेटवर्क लाइटनिंग सेंसर को स्थापित किया गया है।


विश्वविद्यालय को समय-समय पर इस सेंसर के माध्यम से सूचनाएं प्राप्त होती रहेंगी
जिसके माध्यम से मौसम की जानकारी का पता तो लगाया ही जा सकेगा साथ ही
छात्राएं शोधकार्यों के लिए इस सूचना का उपयोग कर सकेंगी। विश्वविद्यालय के
पर्यावरण विभाग की असोसिएट प्रोफेसर डॉ चारू झामरिया, डॉ सुरेश तिवारी के साथ
मिलकर एरोसोल कैमिस्ट्री पर शोधकार्य कर रहीं हैं ऐसे में इस एमओयू के माध्यम से
इस क्षेत्र में शोध प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में मदद मिल सकेगी।


इस अवसर पर डॉ सुरेश तिवारी ने बताया कि यह उपकरण 3 किलोमीटर की परिधि में
45 मिनट पहले ही आकाशीय बिजली गिरने व चमकने की सूचना दे देगा जिसको
दूरदर्शन, आकाशवाणी तथा अन्य संचार माध्यमों के द्वारा लोगों को जानकारी देकर
आकाशीय बिजली से होने वाले जान-माल की क्षति को बचाया जा सकता है। इसी के
साथ ही डॉ तिवारी ने आगाह किया कि बरसात के मौसम में आकाशीय बिजली गिरने
की सम्भावना के दौरान खुले में न रहें, मोबाइल बंद रखें तथा हाइटेंशन तार के
नज़दीक न रहें।


Comments