अपनी पर्यटन क्षमताओं का मात्र 20 प्रतिशत ही उपयोग कर सका है राजस्थान


जयपुर, 27 जनवरी। राजस्थान में पर्यटन क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं, इस क्षेत्र में काफी कुछ किया जा रहा है और यदि हमें सही मायने में इसका लाभ उठाना है तो बहुत कुछ और किए जाने की आवश्यकता है। राजस्थान ने अपनी पर्यटन क्षमताओं का मात्र 20 प्रतिशत ही उपयोग किया है। राज्य में एथिकल एवं सस्टेनेबल टूरिज्म पर ध्यान देने की आवश्यकता है। यह बात राजस्थान सरकार के पर्यटन मंत्री, श्री विश्वेन्द्र सिंह ने कही। वे सोमवार को होटल डिग्गी पैलेस में जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) में डॉ. रश्मि डिकिंसन की पुस्तक ‘सीक्रेट ऑफ आमेर . कम वॉक विद मी इन माय बिलव्ड आमेर‘ के विमोचन के दौरान ‘सस्टेनेबल एंड रेस्पॉन्सिबल टूरिज्म‘ विषय पर आयोजित सैशन में संबोधित कर रहे थे। इस सत्र में पर्यटन मंत्री ने लेखक एवं डॉक्टर, एडवर्ड डिकिन्सन के साथ चर्चा की।


पर्यटन मंत्री ने आगे कहा कि राजस्थान में देश की सर्वाधिक हेरिटेज होटल हैं। इस आंकड़े में योगदान देने वाली हेरिटेज संपत्तियों को राज्य द्वारा अनेक विशेष रियायतें दी जा रही हैं। रेस्पॉन्सिबल टूरिज्म की दिशा में हमारे छोटे प्रयास भी महत्वपूर्ण साबित होंगे। हम बिना पैसा खर्च किए अथवा बिना भारी निवेश के स्थानीय स्तर पर भोजन के स्त्रोत उत्पन्न करने के प्रयास कर सकते हैं, स्थानीय लोगों को रोजगार दे सकते हैं और वैश्विक समुदाय को जोड़ सकते हैं। वेस्ट रिसाइकल करके, जल एवं बिजली को महत्व देते कर, प्लास्टिक वेस्ट कम करके हम अपने व्यवसायों के केंद्र में संस्कृति एवं पर्यावरण को रख सकते हैं। राजस्थान सरकार स्थानीय समुदायों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने, उनका सामाजिकरण करने एवं प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण, विरासत संरक्षण करने एवं अभियान के रूप में जागरूकता लाने के लिए ‘नई पर्यटन नीति’ बनाने की पहल कर रही है।


पुस्तक की जानकारी देते हुए, लेखिका, डॉ. रश्मि डिकिंसन ने बताया कि ‘सीक्रेट्स ऑफ आमेर‘ पुस्तक में हेरिटेज टाउन - आमेर एवं इसके आसपास के क्षेत्रों के 12 वॉक को शामिल किया गया है। इन वॉक के दौरान मैंने महसूस किया कि आमेर के कुछ भाग बहुत ही कमजोर स्थिति में हैं, यहां तक कि इसके कुछ मुख्य भाग भी। रेस्पॉन्सिबल टूरिज्म से आमेर में आगंतुकों एवं स्थानीय लोगों, दोनों को लाभ होगा। डॉ. डिकिंसन ने आगे घोषणा की कि पुस्तक की सभी रॉयल्टी ‘आमेर लेडीज कलेक्टिव‘ को दी जाएगी, जिसके द्वारा अनाथ एवं बेसहारा महिलाओं को सहयोग किया जाएगा। इन महिलाओं को आगे चलकर आमेर का लाइसेंसधारी टूर गाइड बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।


Comments