चायनीज मांझे पर रोक के लिए शहर में जिला प्रशसन के अधिकारियों की जिम्मेदारी तय
ग्रामीण क्षेत्र में उपखण्ड मजिस्टेट की रहेगी जिम्मेदारी

-जिला कलक्टर डॉ.जोगाराम ने बैठक लेकर षिक्षा, पुलिस, जेवीवीएनएल एवं 

पतंग व्यवसायियों को दिए निर्देष

-षिक्षा विभाग के अधिकारियों को वीडियो कांफ्रेंस कर पंचायत स्तर तक निर्देष प्रसारित करने

 एवं जेवीवीएलएन को टीमें गठित कर निगरानी के निर्देष

 

जयपुर, 10 जनवरी। जिला कलक्टर डॉ.जोगाराम ने संक्रान्ति के त्योहार को देखते हुए जिले में प्रतिबन्धित चाइनीज मांझे एवं प्लास्टिक-सिंथेटिक धागों, लोहे, ग्लास पाउडर जैसे जहरीले खतरनाक पदार्थों से बने मांझे के खरीद-बेचान एवं उपयोग को पूरी तरह रोकने की तैयारी और विभिन्न विभागांें द्वारा उठाए गए कदमों के सम्बन्ध में शुक्रवार को जिला कलक्टेªट में पुलिस, षिक्षा विभाग एवं जेवीवीएनएल के अधिकारियों की बैठक लेकर निर्देष प्रदान किए। उन्होंने षिक्षा विभाग के अधिकारियों को शनिवार को पंचायत एवं ब्लॉक स्तर तक के अधिकारियों की वीडियो कांफ्रेंस कर विषेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में इस सम्बन्ध में प्रचार-प्रसार करने के निर्देष दिए। साथ ही शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में जिला प्रषासन के अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की।


जिला कलक्टर ने पतंगबाजी के दौरान चाइनीज एवं खतरनाक मांझे के उपयोग को रोकने में षिक्षा विभाग की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने मकर संक्रान्ति के पूर्व एवं पष्चात् भी कुछ दिनों तक प्रार्थना सभा में स्कूली विद्यार्थियों को इसकी जानकारी देने के निर्देष दिए। साथ ही प्रातः 6 से 8 बजे तक एवं शाम को सायं 5 से 7 बजे तक पतंगबाजी नहीं करने के लिए भी जागरूक करने को कहा।


जिला कलक्टर ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को भी टीमंे बनाकर चाइनीज मांझे के कारण बाधित होने वाली विद्युत आपूर्ति को त्वरित रूप से सुचारू रखने के लिए टीमें गठित करने और ऐसी किसी भी घटना पर त्वरित रूप से कार्यवाही करने के निर्देष दिए।


उन्होंने शहर के पतंग व्यवसायियों को भी प्रतिबंधित मांझे की बिक्री नहीं करने, कहीं भी इसकी बिक्री एवं उपयोग की जानकारी मिलते ही जिला कलक्टेªट में स्थापित 24 घंटे के कन्ट्रोल रूम (0141-2204475) पर अथवा पुलिस कन्ट्रोल रूम (0141-2388435 से 38) को देने के लिए निर्देषित किया है।


जयपुर पतंग उद्योग एवं विक्रेता संघ के प्रतिनिधियों ने बताया कि संघ ने अपनी ओर से चाइनीज मांझे के पूर्ण बहिष्कार की घोषणा कर रखी है। लेकिन शहर में पिछले वर्षों एवं कुछ दिनों में चोरी-छिपे चाइनीज मांझे की बिक्री और उपयोग के कारण हुई दर्दनाक घटनाओं के कारण उनके धंधे पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है। इसे देखते हुए पतंगों की दुकानों पर भी चाइनीज मांझे के बहिष्कार सम्बन्धी सूचना लगाई जा रही है।


पुलिस आयुक्तालय क्षेत्र में जिला प्रषासन के अधिकारी रखेंगे
डॉ जोगाराम ने बताया कि पुलिस आयुक्तालय क्षेत्र के विभिन्न पुलिस वृत्तों में चाइनीज मंाझे के खरीद-बेचान एवं प्रतिबन्धित अवधि में पतंगबाजी पर नजर रखने के लिए जिला प्रषासन के अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की गई है। आदेषानुसार पुलिस वृत्त क्षेत्र बस्सी में तहसीलदार बस्सी, आदर्ष नगर में उप जिला मजिस्टेªट  जयपुर प्रथम, गांधी नगर में तहसीलदार जयपुर, मालवीय नगर में सहायक कलक्टर जयपुर प्रथम, सांगानेर में उप जिला मजिस्टेªट द्वितीय, चाकसू में तहसीलदार चाकसू, मानसरोवर में उप पंजीयक अष्टम, अषोक नगर में सहायक कलक्अर जयपुर द्वितीय, सोडाला में उप पंजीयक प्रथम, वैषालीनगर में उप पंजीयक द्वितीय, जयपुर सदर में उप पंजीयक चतुर्थ को लगाया गया है।


इसी प्रकार झोटवाड़ा में उप पंजीयक तृतीय, चौमूं में तहसीलदार चौमू, शास्त्रीनगर में उप पंजीयक पंचम, कोतवाली में उप जिला मजिस्टेªट जयपुर शहर उत्तर, माणकचौक में सहायक कलक्टर आमेर, रामगंज में उप जिला मजिस्टेªट जयपुर शहर दक्षिण एवं पुलिस वृत क्षेत्र आमेर में तसहीलदार आमेर को इस कार्य में लगाया गया है। जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में सम्बन्धित उपखण्ड मजिस्टेªट अपने उपखण्ड क्षेत्र के प्रभारी रहेंगे एवं उपखण्ड क्षेत्र में पुलिस थाना अनुसार अधिकारियों की ड्यूटी लगाकर उनके क्षेत्र में प्रतिबंधित चायनीज एवं धातु मांझे के खरीद-बेचान को रोकने एवं प्रातः 6 बजे से 8 बजे एवं सायं 5 से 7 बजे तक की अवधि में पतंग उड़ाने पर प्रतिबंध के कानून का पालन कराने की कार्यवाही करेंगे।


बिजली आपूर्ति में व्यवधान, जान का खतरा
जेवीवीएनएल के अधिकारियों ने बताया कि जयपुर शहर वृत मे 132/220 केवी ईएचवी की लाइनें ओवर हेड हैं यानी खुले में हैं। इन लाइनो के तार के बीच मे किसी धातु से बने मांझे यानी चाइनीज मांझे के छू जाने से लाइन मे ट्रिपिंग आ जाती है। मकर संक्रति पर विद्युत आपूर्ति में व्यवधान संबंधी षिकायते कॉल सेन्टर के नंबर 2203000 एवं टोल फ्री नं. 1800-180-6507 पर  दर्ज कराई जा सकती हैं।


चाइनीज मांझा विद्युत चालक का कार्य करता है और विद्युत दुर्घटना की दृष्टि से बहुत खतरनाक हैैैं। मेटल पाउडर कोटेड मांझे का उपयोग करने से वाहन चालको को एवं राहगीरो के दुर्घटनाग्रस्त होने से उनकी जान जाने का खतरा बना रहता है। बिजली के तारों या उपकरणों में यदि पतंग या डोर फंस जाए तो उसे खींचकर अथवा धातु की छड़ आदि से छुड़ाने का कतई प्रयास नही करें। मकानों के पास से गुजर रही बिजली की लाइनों के आसपास पतंग उड़ाते समय विषेष ध्यान व सावधानी बरतें।


Comments