जयपुर जिले का पूरा राजस्व रिकॉर्ड ऑनलाइन
-भारत सरकार की (DILRMP) परियोजना में सबसे तेजी से काम करने का बनाया रिकॉर्ड

-जिले की सभी 17 तहसीलों में राजस्व अभिलेख प्राप्त किए जा सकते हैं ऑनलाइन

-33वें नम्बर की रेंकिंग से पहले नम्बर पर आया जिला

 

       जयपुर, 16 जनवरी। जयपुर जिले ने सर्वाधिक 17 तहसीलें होने के बावजूद सबसे तेज गति से अपना सारा राजस्व रिकॉर्ड ऑनलाइन करने में सफलता हासिल की है। यहां तक कि जिला मार्च 2019 में राजस्थान के 33 जिलों में अंतिम पायदान पर था, परन्तु आज जिले की सम्पूर्ण 17 तहसीले ऑनलाईन अधिसूचित हो चुकी हैं और अब जयपुर जिला सबसे ऊपर प्रथम पायदान पर आ गया है।


जिला कलक्टर डॉ.जोगाराम ने इस सफलता पर इस परियोजना में लगे सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सराहना करते हुए बताया कि यह सफलता भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट ‘‘डिजीटल इन्डिया भूमि अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम (क्प्स्त्डच्)   के सर्न्दर्भ में प्राप्त की गई है जिसमें राजस्व रिकॉर्ड को डिजिटल कर ऑनलाइन किया जाता है। इससे काश्तकार सीधे घर बैठे ई-धरती (अपना खाता) पर अपना राजस्व रिकॉर्ड को देख सकता है और उसे बार-बार राजस्व कर्मचारियों के पास जाने की जरूरत नहीं होगी।


जिला प्रषासन में इस परियोजना की कमान संभाल रहे अतिरिक्त जिला कलक्टर चतुर्थ श्री अषोक कुमार ने बताया कि सभी तरह के राजस्व रिकॉर्ड ऑनलाइन होने के कारण आम आदमी को किसी भी तरह का कार्य जिसमें राजस्व रिकॉर्ड संलग्न करना हो, वह आसान हो जायेगा। सैग्रीगेशन होने के बाद किसी भी आदमी के पास गंाव में कितनी भूमि है, एक ही जगह से मालूम चल जायेगा तथा सीमांत काश्तकार, लघु काश्तकार व वृहद काश्तकार का भी आसानी से मालूम चल सकता है। इससे किसी भी तरह की आपदा या अतिवृष्टि में राजस्व कर्मचारिओं एवं अधिकारियों को रिपोर्ट बनाने व आकलन करने में भी आसानी रहेगी।


उन्होंने बताया कि डीआईएलआरएमपी सरकार का एक महत्वपूर्ण प्रोग्राम है। जयपुर जिले के ऑनलाइन होने के पश्चात् सभी किसानों को बहुत बड़ी राहत मिलेगी। इससे किसान घर बैठे अपने अपने खाते में देख सकता है कि उसके खाते में कितनी भूमि है?  कितने खसरा नम्बर हैं? किस-किस खसरा नम्बर में कितनी भूमि है? तथा साथ ही नक्शा उपलब्ध होने से यह भी देख जा सकता है कि प्रत्येक खसरा नम्बर की कितनी लम्बाई व चौड़ाई है। इससे उसे बार-बार सीमाज्ञान करवाने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी तथा इससे यह भी मालूम हो जायेगा कि नक्शे में जो माप खसरा नम्बर की है वही मौके पर भी है या नहीं, वह किसान स्वयं भी माप कर जानकारी प्राप्त कर सकता है। इस कार्य के लिए बार-बार राजस्व कर्मचारियों के पास जाने की आवश्कता नहीं रहेगी। पहले अपने छोटे-छोटे कार्य के लिए किसान को राजस्व कर्मचारियों व अधिकारियों के चक्कर काटने पड़ते थे, लेकिन किसान अब घर बैठे ही या नजदीकी ई-मित्र पर जाकर अपने रिकॉर्ड की जानकारी ले सकता है।


नक्षे एवं जमाबंदी में खसरों में रहेगी समानता
इस कार्य के लिए राजस्व रिकॉर्ड को सैग्रीगेट किया गया जिससे हर काश्तकार का अपना खाता अलग-अलग हो गया है। इससे जमाबन्दी ई-साईन होकर मिलने लगी है। इससे सभी वर्गों को यह भी फायदा होगा कि नक्षे में भी उतने ही खसरा नम्बर दर्षित होंगे जितने जमाबन्दी में होंगे। जमाबन्दी एवं नक्शा एक समान होने पर ही ऑनलाईन किया जा सकता है। इसलिये जमाबन्दी और नक्शे में खसरे समान नम्बर से होंगे।


नामान्तरकरण भी ऑनलाइन ही होगा जारी, समयसीमा निष्चित
राजस्व रिकॉर्ड ऑनलाइन होने के पश्चात् नामान्तरकरण भी ऑनलाईन ही दर्ज किया जायेगा। कोई भी पंजीकृत दस्तावेज पंजीकरण होने के पश्चात् सीधे ऑनलाइन तहसील में भेज दिया जायेगा और नामान्तरकरण ऑनलाइन ही दर्ज किया जायेगा।  सभी राजस्व कर्मचारियों-अधिकारियों को एक निश्चित समय पर उसका निस्तारण करना होगा। यह कार्य भी ऑनलाइन ही किया जाएगा।  किसान किसी भी तरह का नामान्तकरण दस्तावेज ई-मित्र पर या तहसील कार्यालय में ऑनलाइन दर्ज करवा सकेगा। निश्चित समय पर उस दस्तावेज का निस्तारण किया जाना आवश्यक होगा, जिसके कारण किसान को किसी भी राजस्व कर्मचारी या अधिकारी के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं रहेगी। राजस्व रिकॉर्ड में अगर किसान अपने खसरा नम्बर का बटवारा या आंशिक बेचान करता है तो उसका अलग खसरा नम्बर नामान्तरकरण के साथ दर्ज करना होगा। साथ ही जमाबन्दी एंव नक्शों में खसरा नम्बर अलग हो जायेगा, व तरमीम को नक्शे में दर्शाया जा सकेगा, जो स्वतः ही अलग-अलग भाग दिखाई देगा।


खसरा गिरादावरी भी दिखेगी ऑनलाइन
राजस्व रिकॉर्ड ऑनलाइन होने से किसान उसके खसरा नम्बर में जो फसल बोई है, वो खसरा गिरदावरी ऑनलाइन होने से देखी सकती है, कि उसके कौन से खसरा नम्बर में क्या फसल है और कितनी है? इस प्रकार किसान अपनी बोई गई फसल की गिरदावरी की सटीक जानकारी ऑनलाइन ही प्राप्त कर सकता है।


Comments