मुख्य सचिव ने इंदिरा रसोईयों का किया निरीक्षणलाभार्थियों ने बताया कि खाना अच्छा मिलता हैफ्री कूपन की व्यवस्था को सराहा
मुख्य सचिव ने इंदिरा रसोईयों का किया निरीक्षण
लाभार्थियों ने बताया कि खाना अच्छा मिलता है
फ्री कूपन की व्यवस्था को सराहा
जयपुर, 30 मार्च। मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने मंगलवार को सांगानेरी गेट महिला चिकित्सालय एवं बांगड़ अस्पताल में स्थित इंदिरा रसोईयों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने लाभार्थियों से बातचीत की और व्यवस्थाओं तथा खाने की गुणवत्ता के सम्बन्ध में फीडबैक लिया। सांगानेरी गेट स्थित इंदिरा रसोई में उन्होंने लाभार्थी से पूछा कि यहां खाना खाने रोज आते हो, इस पर लाभार्थी ने बताया कि रोज तो नहीं पर कभी-कभी आता हूॅ। इस दौरान उन्होंने इंदिरा रसोई में खाना खाने के लिये अपनाई जाने वाली प्रक्रिया भी देखी कि किस प्रकार टोकन लेकर लाभार्थी भोजन ग्रहण करता है। उन्होंने इंदिरा रसोई की लोकेषन को भी आइडियल बताया।
खाने के लिये इंदिरा रसोई ही क्यों चुनी घ्
एसएमएस अस्पताल के बांगड़ यूनिट स्थित इंदिरा रसोई के निरीक्षण के दौरान आगरा से अपने पिता के इलाज के लिए आये युवक से जब मुख्य सचिव ने पूछा कि जब बाहर कुछ संस्थाएं मुफ्त में खाना वितरित करती है तो आप वहां क्यों नहीं खाते घ् इस पर लाभार्थी ने जबाव दिया कि बाहर जो खाना मिलता है उसमें पूडी होती है और खाना तेलिये होता है जो पेट को नुकसान करती है जबकि इंदिरा रसोई मंे जो खाना मिलता है वह अच्छा होता है इसलिए हम इंदिरा रसोई में खाने आते है।
रिश्तेदारों से मिली इंदिरा रसोई की जानकारीः-
बांदीकुई से अपने पति के इलाज के लिये अस्पताल आई महिला से मुख्य सचिव ने पूछा कि खाना कैसा है तो महिला ने कहा कि खाना अच्छा है। मुख्य सचिव ने पूछा कि आपको इंदिरा रसोई के बारे में किसने बताया तो महिला ने कहा कि मैं तो आज ही आई हूॅ और पहली बार खाना खा रही हूॅ। महिला ने कहा कि मुझे मेरे रिष्तेदारों ने बताया कि अस्पताल में ही सरकार की तरफ से मात्र 8 रूपये में अच्छा खाना मिलता है। इसी जानकारी के आधार पर मैं खाना खाने पहुंची हॅू।
फ्री कूपन की व्यवस्था को सराहाः-
मुख्य सचिव जब टोकन लेने की प्रक्रिया का जायजा ले रहे थे तो एक व्यक्ति से एक कार्ड लेकर बिना पैसे लिये कांउटर संचालक ने उसे टोकन दे दिया। इस पर मुख्य सचिव ने आयुक्त यज्ञ मित्र सिंहदेव से पूछा कि यह क्या व्यवस्था है। इस पर आयुक्त ने बताया कि कुछ संस्थायें जो लोगों को भोजन करवाना चाहती है वे टोकन के पैसे जमा करवाकर लोगों को कूपन वितरित करती है या निगम को उपलब्ध करवाती है। ऐसे कूपन देकर लोग निषुल्क भोजन प्राप्त कर सकते है। मुख्य सचिव ने ऐसी संस्थाओं को इस तरह का और अधिक कार्य करने के लिये प्रेरित करने के निर्देष आयुक्त को दिये।
इस दौरान उन्होंने बांगड़ स्थित नगर निगम के स्थाई आश्रय स्थल, सुलभ शौचालय का भी निरीक्षण किया और व्यवस्थाओं को सराहा। इस दौरान अतिरिक्त आयुक्त ब्रजेष कुमार चांदोलिया सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
Comments