जिले में कोविड वैक्सीनेशन के लक्ष्य हासिल करने के लिए विभिन्न स्तर पर तत्काल गंभीर प्रयास किए जाने की आवश्यकता-जिला कलक्टर
 जिला कलक्टर ने जिले के सभी सामाजिक, धार्मिक एवं स्वयंसेवी संगठनों, निजी चिकित्सालय प्रबन्धकों एवं इन्सीडेंट कमाण्डर्स का आह्वान किया है कि 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों को कोविड वैक्सीन लगवाने के लिए अपने-अपने क्षेत्र में अपना सर्वोत्तम प्रयास करें, जिससे कोरोना के बढते संक्रमण पर रोक लगाई जा सके। साथ ही कम वैक्सीनेशन दर रहने पर निजी चिकित्सालयों को उनकी वैक्सीनेशन सेंटर की मान्यता समाप्त करने की चेतावनी एवं कम वैक्सीनेशन परिणाम देने वाले बीसीएमएचओ को कारण बताओ नोटिस जारी करने के सीएमएचओ को निर्देष भी दिए।
श्री नेहरा ने शुक्रवार को जिला कलक्टेªट स्थित सभागार में जिले के विभिन्न संगठनों, निजी चिकित्सालय संचालकों एवं इंसीडेंट कमाण्डर्स की बैठकें लेकर कहा कि वर्तमान में जिले में करीब 320 वैक्सीनेशन सेंटर्स बनाए गए हैं। इन सेंटर्स पर 45 वर्ष से अधिक उम्र के 20 लाख से अधिक व्यक्तियों को कोविड का वैक्सीन लगवाया जाना है। अभी जयपुर जिला वैक्सीनेषन के मामले में काफी पिछड़ा हुआ है। अगर वर्तमान गति से ही वैक्सीनेषन जारी रहा तो इसमें 6 महीने लगेंगे। यह स्थिति स्वीकार्य नहीं है। कम से कम 80 से 90 हजार लोगों को जिले में रोजाना वैक्सीनेट कराना जरूरी है, तब जाकर लगभग एक माह में यह लक्ष्य हासिल किया जा सकेगा। इसीलिए राजकीय संस्थानों में अपे्रल माह के गजेटेड छुट्टियों सहित सभी दिन कोविड का वैक्सीन लगाया जाएगा। जिले में वैक्सीन की पर्याप्त संख्या उपलब्ध है।
श्री नेहरा ने कहा कि इस कार्य में जिला प्रशासन के साथ सभी संगठनो, निजी चिकित्सालयों, जनप्रतिनिधियों एवं प्रबुद्धजन का सहयोग अपेक्षित रहेगा। श्री नेहरा ने बताया कि पिछले दिनों सभी पार्षदों के साथ 50-50 के समूह में बैठक कर उनसे वैक्सीनेशन में सहयोग के लिए आग्रह किया था, 1 अप्रेल को वार्ड 81 में आयोजित पहले षिविर से इसकी शुरूआत हो चुकी है। ऐसे ही अन्य वार्ड पार्षद भी आगे आ रहे हैं। उन्होंने सभी इसंीडेंट कमाण्डर्स को भी पार्षदों के सहयोग से उनके क्षेत्र में अधिक से अधिक लोगों का कोविड वैक्सीनेशन करवाने के निर्देश दिए। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रथम श्री इकबाल खान, चतुर्थ श्री अषोक कुमार, उत्तर श्री बीरबल सिंह, चतुर्थ श्री शंकरलाल सैनी, सभी डीसीपी एवं पुलिस, डब्ल्यूएचओ के डाॅ.ऋषि, सीएमएचओ प्रथम श्री नरोत्तम शर्मा, चिकित्सा एवं अन्य विभागों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

धार्मिक एवं सामाजिक संगठन
श्री नेहरा ने सबसे पहले करीब दो दर्जन विभिन्न धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर उनसे अपने सदस्यों एवं अन्य पात्र व्यक्त्यिों के लिए शिविर आयोजित करवाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि संगठन आगे आकर कोविड वैक्सीनेषन में सहयोग करें और उन्हें निशुल्क वैक्सीन, चिकित्सा स्टाफ, शिविर स्थल पर एम्बुलेंस आदि वाहन प्रोटोकाॅल के अनुसार जिला प्रषासन एवं चिकित्सा विभाग की ओर से उपलब्ध करा दिए जाएंगे। विशेष कोविड वैक्सीनेशन षिविर लगाने के इच्छुक संगठन दो-तीन दिन पहले सम्बन्धित आरसीएमएचओ को इसकी जानकारी दे दें और वैक्सीनेशन के इच्छुक व्यक्तियो से आधार कार्ड के साथ सहमति प्राप्त कर लें। इस पर रोटरी क्लब एवं अन्य संगठनों ने कोविड वैक्सीनेशन कार्यक्रम एवं इसके लाभ के सोशल मीडिया एवं अन्य प्रकार से प्रचार प्रसार के लिए सहयोग करने की इच्छा व्यक्त की। जिला कलक्टर श्री नेहरा ने पिछले वर्ष कोविड के संक्रमण एवं लाॅकडाउन के दौरान इन सभी संगठनों की सहयोगी भूमिका के लिए उनका धन्यवाद भी ज्ञापित किया। धार्मिक स्थलों एवं सामाजिक आयोजनों में भीड़-भाड़ के नियंत्रण एवं मास्क, सोषल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेषन में भी इस संगठनों से सहयोग का आग्रह किया।

निजी चिकित्सालय संचालकों के साथ बैठक
जिला कलक्टर श्री नेहरा ने कोविड वैक्सीनेशन से जुडे़ निजी चिकित्सालयों के संचालकों से उनके सेंटर पर कम वैक्सीनेशन का कारण पूछते हुए वैक्सीनेशन से सम्बन्धित भ्रान्तियां दूर करने को कहा। उन्होंने कहा कि जिले में कोविड वैक्सीन पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है, नियम काफी सरल किए जा चुके हैं। चिकित्सालयों के लिए वैक्सीनेषन के लिए 250 रुपए एवं कोविड जांच की दर 500 रुपए सरकार द्वारा तय की जा चुकी हैं। किसी भी स्थिति में निर्धारित से अधिक राषि या कोविड जंाच की पर्ची के साथ अन्य शुल्क नहीं जोड़ा जाए। ऐसे निजी चिकित्सालय जो वैक्सीनेशन में अधिक सहयोग नहीं कर पा रहे हैं, उनके यहां वैक्सीनेशन सेंटर रखने पर पुनर्विचार किया जा सकता है। आरसीएचओ प्रथम श्री प्रवीण झारवाल ने भी कोविड प्रोटोकाॅल की पालना नहीं करने वाले निजी चिकित्सालयों से सेंटर हटाने की चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि चिकित्सालयों को कोविन सॉफ्टवेयर में उसी दिवस वैक्सीनेशन का डेटा बिना सैषन खत्म किए ऑनलाइन करना जरूरी है। वैक्सीन की कोल्ड चैन मेंटन रखें, खोले जाने के चार घंटे के भीतर ही वायल का उपयोग किया जाना चाहिए। वैक्सीन प्राप्त करने, भण्डारण और लगाए जाने और इसकी रिपोर्टिंग के सभी प्रोटोकॉल की पालना जरूरी है।
 
इंसीडेंट कमाण्डर्स को निर्देश
जिला कलक्टर श्री नेहरा ने कोविड के प्रबन्धन के लिए जिले में बनाए गए पुलिस, जिला प्रशासन, नगर निगम, चिकित्सा एवं अन्य विभागोें के अधिकारी इंसीडेंट कमाण्डर्स को निर्देष दिए कि पिछले वर्ष की तरह लाॅकडाउन की स्थितियां पैदा नहीं हों इसके लिए उन्हें तत्परता से काम करने की जरूरत है। उन्होंने अधिक से अधिक सैम्पलिंग करवाने एवं शहरी क्षेत्र में कोरोना पाॅजिटिव आने पर कांटेक्ट टेªसिंग पर नजर रखने और एक छोटे क्षेत्र में 5 या अधिक लोगों के कोरोना पाॅजिटिव आने पर माइक्रो कन्टेन्मेंट जोन एवं कन्टेन्मेंट जोन लागू करवाने, बीट कांस्टेबल एव ंबीएलओ की सहायता से कोविड पॉजिटिव व्यक्ति का होम आईसोलेषन सुनिश्चित करने के निर्देष दिए। श्री नेहरा ने कहा कि मास्क लगाकर ही बाहर निकलने, दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड प्रोटोकाॅल का बार-बार उल्लंधन करने वाले प्रतिष्ठानों, कोचिंग संगठनों, दुकानदारों एवं व्यक्तियों को प्रवर्तन के जरिए समझाया जाए एवं चालान किए जाएं। सभी इंसीडेंट कमाण्डर्स, सम्बन्धित एसीपी, चिकित्सक, बीएलओ एवं बीट कांस्टेबल समन्वय के साथ काम करें।
श्री नेहरा ने कोविड संक्रमण रोकने की इन कार्यवाही के साथ ही कोविड वैक्सीनेशन का प्रतिशत बढाने के लिए कार्य करने के लिए भी इंसीडेंट कमाण्डर्स को निर्देष दिए। उन्होंने शहरी क्षेत्र में निगम डीसी एवं अन्य अधिकारियों को बीएलओ द्वारा घर-घर सम्पर्क करने और स्थानीय पार्षद के सहयोग से विशेष शिविर लगाने को कहा जिससे क्षेत्र के सभी 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को यह वैक्सीन लगवाया जा सके।
Comments