ब्लाइंड मर्डर का खुलासा : बार-बार पैसों का तकाजा करने पर की हत्या, पहचान छुपाने कपड़े उतार चेहरा व हाथ जला दिया, मामा-भांजा गिरफ्तार 20 पुलिसकर्मियों की टीम 30 से अधिक सीसीटीवी फुटेज व 500 लोगो से पूछताछ कर हत्यारों तक पहुंची
भीलवाड़ा 02 अगस्त। बिजौलिया थाना क्षेत्र में बांका गांव के आगे स्टेट हाईवे के किनारे 29 जुलाई को मिले अर्धजले व अर्धनग्न शव के मामले का खुलासा कर पुलिस ने हत्यारोपित मामा-भांजे अजय शर्मा पुत्र बाबू लाल शर्मा निवासी फड़या मोहल्ला थाना तुंगा जयपुर व गोपाल शर्मा पुत्र भैरू लाल शर्मा निवासी जिला रतलाम मध्यप्रदेश को गिरफ्तार कर लिया। 
     एसपी भीलवाड़ा विकास शर्मा ने बताया कि ब्लाइंड मर्डर के खुलासा में 5 विशेष टीमो के 20 पुलिस कर्मियों ने दिन-रात मेहनत कर 30 से अधिक सीसीटीवी चैक किये गये। घटना स्थल पर नियमित गुजरने वाले 500 से अधिक वाहन चालको व राहगीरों से पूछताछ कर सोशल मीडिया की सहायता से मृतक की पहचान कर अभियुक्तों तक पहुँची ओर घटना का खुलासा किया। मृतक रामकिशन मीना पुत्र गेंदी लाल मीना (46) दौसा जिले में थाना रामगढ़ पचवारा के नाका की ढाणी सिन्दोली का रहने वाला था। जिसका अभियुक्त अजय शर्मा से पैसों का लेनदेन था। राम किशन द्वारा बार-बार पैसों का तकाजा करने पर अजय शर्मा ने अपने मामा गोपाल की सहायता से सिर पर वार कर हत्या कर दी और पहचान छिपाने के उद्देश्य से मृतक के कपड़े उतार कर चेहरा ओर हाथ जला दिया था।
*ये है मामला*
एसपी विकास शर्मा ने बताया कि 29 जुलाई को थाना बिजौलिया क्षेत्र में गांव बांका के आगे बूंदी रोड पर एक स्थानीय निवासी नन्दा गुर्जर (67) को एक युवक की अर्धजली व अर्धनग्न अवस्था में मिलने पर उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचित किया। सूचना मिलते ही एसएचओ सूर्य भान सिंह मय टीम के मौके पर पहुंचे। घटना स्थल व आस पास के गांव वालों से पूछताछ की गई पर किसी ने मृतक की पहचान नही की। नन्दा गुर्जर की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई।
*30 से अधिक सीसीटीवी फुटेज देख 500 ग्रामीणों से की पूछताछ*
     घटना की गंभीरता को देखते हुए एसपी विकाश शर्मा ने एएसपी गजेन्द्र सिहं जोधा व सीओ मांडलगढ ज्ञानेन्द्र सिहं के नेतृत्व में थानाधिकारी सूर्य भान सिंह, साईबर सैल व थाना स्तर पर विशेष टीमों का गठन किया ओर लगातार मामले की मोनेटरिंग की। गठित टीम ने स्टटे हाईवे पर नियमित निकलने वाले सैंकड़ो राहगीरो व वाहन चालको व संदिग्धों से पूछताछ की व घटना स्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेजो का विश्लेषण किया। सोशल मीडिया पर मृतक की फोटो व उसके पास से मिले समान को शेयर किया व मुखबिर एक्टिव किये।
*सोशल मीडिया ने कराई मृतक की पहचान*
जयपुर के तुंगा थाने में मृतक रामकिशन की गुमशुदगी रिपोर्ट दर्ज थी। सोशल मीडिया पर शेयर की गई फोटो व सामान को देख थानाधिकारी तुंगा रमेश कुमार ने भीलवाड़ा पुलिस से संपर्क किया। शव की शिनाख्ती हेतु थाना रामगढ़ पचवारा दौसा निवासी रामकिशन मीना का भतीजा बाबू लाल मीना व साला जोधा राम मीना भीलवाड़ा पहुंचे। मृतक के दाहिनें हाथ पर अंग्रेजी मे गुदे आर के एम को देख दोनों ने मृतक की पहचान राम किशन के रूप में की। पहचान होने पर शव को अंतिम संस्कार हेतु मृतक के भतीजे व साले को सौंप गया। 
      बीटीएस डाटा के विश्लेषण व संदिग्धों के प्राप्त मोबाईल नम्बरो के विश्लेषण से अजय शर्मा व गोपाल शर्मा की भूमिका संदिग्ध पायी जाने पर दोनों को तलाश कर पूछताछ की तो उन्होंने रामकिशन मीना की हत्या कर जलाना स्वीकार कर लिया। 
                         -----------
Comments