फर्जी आईडी का इस्तेमाल कर होटल में रुकने वाला संदिग्ध व्यक्ति गिरफ्तार, लोगों में रौब जमाने सेना की वर्दी का करता था इस्तेमाल
कोटा 12 अगस्त। शहर के रेलवे स्टेशन स्थित एक होटल में फर्जी आईडी देकर दो महीनों से रुके हुए एक अभियुक्त को भीमगंज मण्डी थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार विकास नामदेव पुत्र अरूण नामदेव (23) गांव इमलिया माधव नगर जिला कटनी मध्यप्रदेश का रहने वाला है जो सीकर निवासी विकास कुमार पुत्र छगन लाल ढाका की आईडी देकर होटल में 800 रुपये प्रतिदिन रूम के दे रहा था। आरोपी के पास सेना के सूबेदार स्तर के दो स्टार लगे हुये काले रंग की वर्दी, विदेशी मुद्रा के 10 नोट एवं 15 सिक्के, चुराये हुए 7 आईडी कार्डस तथा दो मोबाइल मिले है।
      पुलिस अधीक्षक डॉ. विकास पाठक ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस पर जिले के सभी होटल, धर्मशालाओं को सन्दिग्ध लोगों के रुकवाने पर एतिहातन पुलिस ने चेतावनी दे रखी थी। एक युवक विकास कुमार की आईडी पर करीब दो महीनों से रेलवे स्टेशन स्थित सिमरन होटल में रूम बुक कर रुका हुआ था तथा दो स्टार लगी हुई सेना की काली वर्दी मे रहता था। शक होने पर होटल मैनेजर सुरेन्द्र अदलक्खा ने दी हुई आईडी चैक की तो चेहरे का मिलान नही हुआ। पुलिस को सूचना देने पर एसएचओ लक्ष्मी चंद टीम के साथ तुरन्त होटल पहुंचे और संदिग्ध युवक को राउण्डअप किया।
     थाने लाकर पूछताछ की गई तो सामने आया की दिसम्बर 2020 में इसने सीकर के ढाका की ढाणी निवासी विकास कुमार का पर्स चुराया था, पर्स में मिली आईडी का इस्तेमाल कर होटल सिमरन में पिछले दो महीनों से रुका हुआ था। असली नाम विकास नामदेव निवासी जिला कटक एमपी है जो किशोरावस्था से ही चलती ट्रेनो में चोरी करने लगा था। जिसके खिलाफ कटनी, उज्जैन, मेघनगर (एमपी) एवं अन्य थानो पर पूर्व में चोरी के प्रकरण दर्ज है। ट्रेन में स्लिपर या थर्ड एसी का टिकट बुक करवा सोये हुये यात्रियों के पर्स चुरा, पर्स में मिली आईडी से होटलो में रुकता था। कोटा में भी विगत 2 वर्षो से होटल गीता, सिद्वार्थ सिमरन में अलग अलग नाम से रुका था। लोगों में अपना प्रभाव जमाने के लिए इसने आर्मी के सूबेदार रैंक के अधिकारी की वर्दी सिलवा रखी है एवं सोशल मीडिया पर आर्मी की वर्दी के फोटो का इस्तेमाल करता है ।
                         ----------
Comments