डेल्फिक कांउसिल ऑफ राजस्थान द्वारा 'कथक कथा' का वर्चुअल टॉक सेशन
डेल्फिक कांउसिल ऑफ राजस्थान द्वारा
'कथक कथा' नामक वर्चुअल टॉक सेशन का आयोजन किया गया।
डेल्फिक कांउसिल ऑफ राजस्थान, Indian Delphic council के तत्वावधान में गठित की गई संस्था है जो कि International Delphic council के मूल उद्देश्यों के तहत काम करती है। 
खेलों के लिए जैसे ओलंपिक गेम्स हैं, कला एवं संस्कृति के लिए *डेल्फिक गेम्स* हैं। राजस्थान के सुसम्पन्न सांस्कृतिक परिदृश्य को विश्व के सामने प्रस्तुत करना, डेल्फिक कांउसिल ऑफ राजस्थान का मूल उद्देश्य है।

यह टॉक सेशन डेल्फिक डायलॉग्स की कड़ी का दूसरा कार्यक्रम था। चर्चा करने के लिए पैनल पर मौजूद में देश की जानी मानी कथक नृत्यांगना एवं गुरु, प्रेरणा श्रीमाली और कथक नृत्यांगना शमनीषा गुल्यानी तथा शिप्रा शर्मा, आर.ए.एस शामिल थीं।

कथक क्या है,कथक के घरानों का मतलब, जयपुर घराने की विशेषता, डेल्फिक कांउसिल ऑफ राजस्थान की कधक के प्रचार-प्रसार में भूमिका, युवाओं की कथक में अभिरुचि विकसित करने में डेल्फिक डायलॉग्स के अभिनव प्रयोग आदि विभिन्न पहलुओं पर बातचीत की गई।
कार्यक्रम में, इन डायलॉग्स के निरंतर आयोजन हेतु, डेल्फिक कांउसिल ऑफ राजस्थान की फाउंडर प्रेसिडेंट श्रेया गुहा, आइ.ए.एस. तथा फाउंडर जनरल सेक्रेटरी जितेन्द्र सोनी आई.ए.एस को आभार व्यक्त किया गया।
इस डेल्फिक डायलॉग्स सीरीज़ में अगला कार्यक्रम 'राजस्थान की देशी रियासतों का एकीकरण' पर आगामी शनिवार को ऑनलाइन आयोजित होगा।
Comments