पुष्कर सरोवर के घाट में डूबी 12 वर्षीय बालिका को एसडीआरएफ ने सुरक्षित बाहर निकाला
पुष्कर 14 नवम्बर। पुष्कर मेले में परिजनों के साथ घूमने आई एक 12 वर्षीय बालिका स्नान के दौरान पैर फिसलने की वजह से डूबने लगी। मौके पर मौजूद एसडीआरएफ के 2 जवानों ने तुरंत गोता लगा बालिका को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। घटनास्थल पर मौजूद स्थानीय प्रशासन तथा श्रद्धालुओं ने एसडीआरएफ टीम के जवानों द्वारा किए गए त्वरित रेस्तु कार्य की सराहना की और रेस्क्यू टीम को धन्यवाद दिया।
       एसडीआरएफ के कमांडेंट पंकज चौधरी ने बताया कि अजमेर के पुष्कर थाना क्षेत्र में 11 नवंबर से 21 नवंबर तक अंतर्राष्ट्रीय पुष्कर मेला आयोजित किया जा रहा है। इस मेले में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पुष्कर सरोवर में स्नान को देखते हुए एसपी अजमेर की मांग पर सुरक्षा व्यवस्था हेतु टीम प्रभारी हेड कांस्टेबल गोमा राम के नेतृत्व में पुष्कर सरोवर के विभिन्न घाटों पर 13 जवानों की एक रेस्क्यू टीम को तैनात किया गया था।
     शनिवार प्रातः 10:30 बजे पुष्कर सरोवर की तैरनी घाट पर स्नान के दौरान सीढ़ियों से पैर फिसलने से जयपुर के सांगानेर इलाके के गांव भापुरा के रहने वाले श्रवण गुर्जर की 12 वर्षीय बेटी अंजलि डूबने लगी।
     बच्ची को पानी में डूबता देख घाट पर तैनात एसडीआरएफ के जवान कॉन्स्टेबल छोटूराम व सुरजाराम द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए पानी में गोता लगाकर तुरंत बालिका को पानी से जीवित निकाल कर परिजनों को सुपुर्द किया। रेस्क्यू टीम के जवानों ने साहसिक कार्य करके एसडीआरएफ के ध्येय "आपदा सेवार्थ कटिबद्धता" को पूर्ण रूप से चरितार्थ किया।
                           -----------
Comments